Russia Warning To Britain: रूस की चेतावनी ऐसे समय पर आई है जब ब्रिटेन के रक्षा मंत्री जेम्स हेप्पी ने कहा कि ब्रिटेन रूसी इन्फ्रास्ट्रक्चर पर यूक्रेनी हवाई हमलों का समर्थन करता है। उन्होंने कहा कि इस तरह के हमलों में ब्रिटिश हथियारों का इस्तेमाल पूरी तरह से वैध होगा।

कीव/मॉस्को : यूक्रेन को मिल रही पश्चिमी मदद रूस के लिए घातक साबित हो रही है। जिस युद्ध को पुतिन कुछ ही दिनों में खत्म करना चाहते थे वह 64 दिनों से लगातार चल रहा है। आग बबूला रूस ने चेतावनी दी है कि वह यूक्रेन की मदद करने के लिए ब्रिटेन में सैन्य ठिकानों को निशाना बना सकता है। साथ ही ‘उकसावे वाले बयान’ के बाद वह यूक्रेन लौटने वाले ब्रिटिश राजनयिकों को भी टारगेट कर सकता है। ब्रिटेन ने घोषणा की है कि वह कीव में अपने दूतावास को दोबारा खोलेगा।

डेलीमेल की खबर के अनुसार रूसी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता मारिया ज़ाखारोवा ने कहा कि यूक्रेन को हथियार देने वाले नाटो देशों पर भी हमला किया जा सकता है। उन्होंने चेतावनी देते हुए कहा कि सैन्य आपूर्ति को बाधित करने के लिए रूस उन नाटो देशों के क्षेत्र में सैन्य ठिकानों पर हमला कर सकता है जो कीव को हथियार सप्लाई कर रहे हैं। प्रवक्ता ने कहा कि इसकी वजह से यूक्रेन में मौतें और खून-खराबा हो रहा है।

यूक्रेनी सैनिकों को यूक्रेन में ट्रेनिंग देगा ब्रिटेन
रूस की चेतावनी ऐसे समय पर आई है जब ब्रिटेन के रक्षा मंत्री जेम्स हेप्पी ने कहा कि ब्रिटेन रूसी इन्फ्रास्ट्रक्चर पर यूक्रेनी हवाई हमलों का समर्थन करता है। उन्होंने कहा कि इस तरह के हमलों में ब्रिटिश हथियारों का इस्तेमाल पूरी तरह से वैध होगा। हेप्पी ने कहा कि अगर डोनेट्स्क और लुहान्स्क में लड़ाई खिंचती है तो ब्रिटेन यूक्रेन में यूक्रेनी सैनिकों को ट्रेनिंग देना दोबारा शुरू करेगा। उनके बयानों को रूसी रक्षा मंत्रालय ने ‘उकसाने वाला’ करार दिया था।

राजनयिक भी आ सकते हैं रूस के निशाने पर
यूक्रेन को लेकर रूस और पश्चिम के बीच अब तनाव बढ़ रहा है। मॉस्को ने चेतावनी दी है कि वह कीव में ‘प्रमुख लोगों’ के सेंटर्स पर हमला कर सकता है, भले ही वहां ब्रिटिश और अन्य पश्चिमी राजनयिक मौजूद हों। बढ़ते तनाव के बीच रूस के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव ने तीसरे विश्व युद्ध की चेतावनी दी है। उन्होंने कहा कि दुनिया में तीसरे विश्व युद्ध का खतरा वास्तविक है जिसे नजरअंदाज नहीं किया जा सकता। इसके बावजूद मंगलवार को जर्मनी ने घोषणा करते हुए कहा कि वह यूक्रेन को जमीन से हवाई क्षेत्र को सुरक्षित बनाने के लिए एंटी-एयरक्राफ्ट टैंक मुहैया कराएगा।

Previous articleचीन में मिला पहला एवियन फ्लू
Next article7600 करोड़ रुपये की लगात से बन रहा है रिलायंस का मेगामॉल

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here