22 जून 1996, यानि कि आज से ठीक 25 साल पहले भारत के पूर्व कप्तान और बीसीसीआई के प्रेसीडेंट सौरव गांगुली ने भारत के लिए टेस्ट में पदार्पण करते हुए शानदार शतक लगाते हुए 131 रन बनाए थे। केवल गांगुली ही नहीं, बल्कि भारत की कप्तानी कर चुके औऱ मौजूदा दौर में भारतीय अंडर-19 टीम कोच राहुल ड्राविड़ ने भी इस मैच में अपना पदार्पण किया था। ड्राविड़ ने भी अपने पहले ही मैच में 95 रनों की शानदार पारी खेली थी।

इंग्लैंड और भारत के बीच लॉर्ड्स खेले गए इस टेस्ट मैच की शुरुआत 20 जून से हुई थी। पहले बल्लेवाजी करते हुए इंग्लैंड ने पहली पारी में 344 रन बनाए। ग्राहम थोर्प ने 89 वहीं जैक रसेल ने 124 रनों की पारी खेली थी। भारत के लिए वेंकटेश प्रसाद ने 5 विकेट चटकाए थे। जवाब में भारत ने अपनी पहली पारी में 429 रन जड़ कर 85 रनों की बढ़त ले ली थी। पदार्पण कर रहे गांगुली औऱ द्रविड़ के बीच छठे विकेट के लिए 94 रनों की साझेदारी हुई। गांगुली ने 131 तो वहीं द्रविड़ ने 95 रनों की पारी खेली थी। इन दोनों के बदौलत भारत इस स्कोर तक पहुँच पाया। जवाब में इंग्लैंड ने अपनी दूसरी पारी में 9 विकेट पर 278 रन बनाए और मुकाबला ड्रॉ रहा।

सौरव गांगुली ने अपनी कप्तानी में कई बड़े मुकाम हासिल किए हैं। उनकी कप्तानी में भारत ने विदेशी जमीन पर कई ऐतिहासिक जीत दर्ज करी हैं। उनकी कप्तानी में भारत ने 2003 के वर्ल्ड कप के फाइनल में जगह बनाई थी। फिलहाल गांगुली बीसीसीआई के प्रेसीडेंट हैं।

राहुल द्रविड़ ने भारत की कप्तानी की है। इनकी कप्तानी में ही भारत ने 2007 में इंग्लैंड में टेस्ट सीरीज जीती थी। फिलहाल ड्राविड़ भारत की अंडर-19 टीम के कोच हैं। उनके कार्यकाल में ही भारत ने 2018 में अंडर-19 विश्व कप जीता था। आगामी श्रीलंका दौरे के लिए भी द्रविड़ को भारतीय टीम का कोच बनाया गया है।

Previous articleएक दिन में रिकॉर्ड तोड़ पोलियो के टीके 2012 में लगे, फिर भी मनमोहन सिंह ने नहीं लगवाए अपने पोस्टर
Next articleक्लब हाउस ऐप और उसकी लोकप्रियता के कारण