कोरोना संकट के बीच भारतीय वैक्सीन निर्माता कंपनी भारत बायोटेक को झटका लगा है, ब्राजील ने 32.4 करोड़ की डील को रद्द कर दिया है।।ब्राजील के राष्ट्रपति जायर बोलसोनारो पर भ्रष्टाचार को छुपाने का आरोप लगा है, व्हीसलब्लोअर द्वारा घेरे जाने पर वहां की सरकार ने डील रद्द कर दी।

ब्राजील के पास फाइजर कंपनी की वैक्सीन खरीदने का ऑप्शन था लेकिन उसने उससे महंगी कोवैक्सीन को चुना जिससे सरकार सभी के निशाने पर आ गई। स्वास्थ्य मंत्रालय लगातार दावा कर रहा था कि इस डील में सबकुछ क्लीयर है लेकिन मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा तो राष्ट्रपति की अनियमितता सामने आई।

गौरतलब है कि बोलसोनारो सरकार कोरोना संकट के बीच इतनी अधिक मौत को लेकर पहले से ही निशाने पर है भ्रष्ट्राचार के मामले से उसकी और किरकिरी हो रही है। ब्राजील में बढ़ी कीमतों, जल्दी बातचीत और नियामकों की तरफ से अटकी हुई मंजूरियों का हवाला देते हुए इस डील की जांच शुरू कर दी है।

इसके अलावा सरकार के महामारी से निपटने के तरीकों की जांच में जुटा सीनेट पैनल भी इस मामले की जांच कर रहा है। राष्ट्रपति बोलसोनारो के खिलाफ एक विपक्षी सीनेटर ने सोमवार को सुप्रीम को कोर्ट में आपराधिक शिकायत दर्ज कराई है।

सीनेटर रैंडॉल्फ रॉड्रिगेज ने कहा है कि वे चाहते हैं कि अदालत ‘इन गंभीर आरोपों’ की जांच करे। साथ ही उन्होंने कहा कि कोर्ट यह भी पता लगाए कि बोलसोनारो ने ‘जानकारी मिलने के बाद स्वास्थ्य मंत्रालय में चल रहे इतने बड़े भ्रष्टाचार पर कोई कार्रवाई क्यों नहीं की।’ बोलसोनारो सरकार पहले ही कोरोना के चलते लाखों मौतों के चलते देश में आलोचना का सामना कर रही है।

Previous articleनहीं कह सकते कि केजरीवाल सरकार ने ऑक्सीजन की मांग बढ़ा-चढ़ा कर बताई- AIIMS चीफ
Next articleसंसदीय समिति ने रविशंकर प्रसाद और शाशि थरूर के अकाउंट लॉक होने पर मांगा जवाब