नई दिल्ली। एलोवेरा (aloe vera) को स्किन, हेल्थ और बालों के लिए फायदेमंद माना जाता है। कई लोग सुबह खाली पेट एलोवेरा जूस (aloe vera juice)  पीते हैं। वहीं, स्किन केयर रूटीन में भी एलोवेरा का इस्तेमाल सबसे ज्यादा किया जाता है लेकिन क्या आप जानते हैं कि एलोवेरा (aloe vera) का ज्यादा इस्तेमाल करने से इसके साइड इफेक्ट्स भी हो सकते हैं।

एलोवेरा (aloe vera) की पत्तियों में लेटेक्स होता है, जो पौधे की स्किन के नीचे से आता है। बहुत से लोगों को लेटेक्स से एलर्जी होती है, जिससे पेट में जलन, पेट में ऐंठन और कम पोटेशियम का स्तर जैसी समस्याएं हो सकती हैं। ऐसे में स्किन के लिए फिर भी यह फायदेमंद हो सकता है लेकिन हेल्थ के मामले में आपको डॉक्टर से सलाह लेकर ही एलोवेरा जेल का इस्तेमाल करना चाहिए।

एलोवेरा (aloe vera) के ज्यादा इस्तेमाल से होने वाले साइड इफेक्ट्स-

-कई लोगों को एलोवेरा जेल (Aloe vera gel) से एलर्जी हो सकती है, जिससे स्किन की एलर्जी, आंखों में लालिमा, स्किन पर चकत्ते, जलन और सूजन जैसी प्रॉब्लम्स हो सकती हैं।

-एलोवेरा जूस (aloe vera juice) का सेवन करने से आपका ब्लड शुगर लेवल गिर सकता है। इससे डायबिटीज के मरीजों में इलेक्ट्रोलाइट असंतुलन की संभावना बढ़ सकती है, अगर आप डायबिटिक हैं, तो एलोवेरा जूस का सेवन करने से पहले डॉक्टर की सलाह लेना बेहतर होता है।

गर्भावस्था की शुरुआत में रखें इन बातों का ध्यान

-माना जाता है कि गर्भवती महिलाओं और ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली महिलाओं को एलोवेरा जूस पीने से बचना चाहिए, क्योंकि इसमें जलन पैदा करने वाले गुण होते हैं। यह गर्भवती महिलाओं में गर्भाशय पर असर डाल सकता है।

-एलोवेरा जूस (aloe vera juice) शरीर में पोटेशियम के स्तर को कम कर सकता है, जिससे अनियमित दिल की धड़कन, कमजोरी और थकान हो सकती है। बुजुर्ग और बीमार लोगों को एलोवेरा जूस पीने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए।

aloe vera
aloe veraaloe vera

-एलोवेरा (aloe vera) में बायोएक्टिव कंपाउंड लीवर में डिटॉक्सिफिकेशन प्रोसेस में गड़बड़ी कर सकते हैं, जिससे कि लीवर से जुड़ीं बीमारियां ट्रिगर हो सकती हैं।

-लेटेक्स से पेट में ज्यादा ऐंठन और दर्द हो सकता है। एलोवेरा जूस का सेवन न करें, खासकर अगर आप पेट की समस्या से जूझ रहे हैं।

लीवर को हेल्दी रखने के लिए डाइट में शामिल करें ये फूड

Previous articleजाने बच्चों में होने वाले टोमैटो फ्लू के लक्षण और बचाव के उपाय
Next articleजाने क्या है सफेद चाय के फायदे और रेसिपी