ट्विटर और केंद्र सरकार में टकराव जारी है। इस बीच आज केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने दावा किया है कि ट्विटर ने करीब 1 घंटे तक उनका अकाउंट लॉक रखा। ट्विटर का कहना है कि आप ने अमेरिका के डिजिटल मिलेनियम कॉपीराइट एक्ट का उल्लंघन किया है।

रविशंकर प्रसाद ने कहा कि ट्विटर की मनमानी सहनशीलता को लेकर जो टिप्पणियां की हैं, स्पष्टता और हमारी उनकी झल्लाहट है। उन्होंने कहा कि कोई भी प्लेटफार्म कुछ भी कर ले आईटी को लेकर नया कानून मनाना ही पड़ेगा। इसे लेकर कोई समझौता नहीं किया जाएगा। ट्विटर बोलने की आजादी का हितेषी नहीं। उसे सिर्फ अपना एजेंडा चलाने में दिलचस्पी है।

सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री ने कहा कि ट्विटर की कार्रवाई आईटी के नियमों के खिलाफ है। अकाउंट लॉक करने से पहले मुझे कोई नोटिस नहीं दिया। इससे साबित होता है कि ट्विटर नए नियमों को नहीं मनाना चाहता है। अगर ट्विटर नियमों का पालन करता तो वह किसी के नाम पर मनमाने तरीके से लॉक नहीं करता।

बता दें कि ट्विटर और केंद्र सरकार में लंबे समय से विवाद चल रहा है। सरकार का कहना है कि ट्विटर को नया नियम मानना होगा। नए नियमों के तहत ट्विटर, फेसबुक, इंस्टाग्राम और व्हाट्सएप कैसे पढ़े सोशल मीडिया मंचों को अतिरिक्त उपाय करने की जरूरत होगी। इसमें भारत का मुख्य अनुपालन अधिकारी, नोडल अधिकारी और शिकायत अधिकारी का नियुक्त शामिल है।

कांग्रेसी नेता और पूर्व मंत्री शशि थरूर ने रविशंकर प्रसाद का अकाउंट ब्लॉक किए जाने पर कहा ” रविशंकर जी आपके जैसी ही घटना मेरे साथ भी हुई थी। यह घटना उस वक्त की जब मैं आईटी मंत्री था। एक गाने के वीडियो में ट्विटर में आपत्तिजनक बताते हुए कार्रवाई की थी।”

Previous articleFATF ने नहीं दी पाकिस्तान को राहत, फिलहाल ग्रे लिस्ट में ही रहेगा
Next articleजार्ज फ्लायड मामले में फैसला, दोषी पूर्व पुलिस अधिकारी को साढ़े 22 साल की सजा